Toll Free Number : 18005722266
"यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता:" पूर्ण सुरक्षित आवासीय महिला विश्वविद्यालय
Jayoti Vidyapeeth Women’s UniversitY (JVWU)
government of rajasthan established
Through ACT No. 17 of 2008 as per UGC ACT 1956

NewsBack

ज्योति विद्यापीठ महिला विश्वविद्यालय ने धूमधाम से मनाई महात्मा गांधी की 150वीं और लाल बहादुर शास्त्री जी की जयंती,

विश्वविद्यालय द्वारा कैम्पस और गोद लिये ग्रामों को प्लास्टिक फ्री करने का अभियान स्वछता ही मेरी पहचान , प्लास्टिक मुक्त हो मेरा गांव और रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया।

ज्योति विद्यापीठ महिला विश्वविद्यालय ने महात्मा गांधी की 150वीं और लाल बहादुर शास्त्री जी की जयंती हर्षोल्लास के साथ मनाई। इस विशेष अवसर पर विश्वविद्यालय द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया । मुख्य अतिथि माननीया चेयरपर्सन जे.वी.एन. विदुषी गर्ग जी एवं माननीय सलाहकार एवं संस्थापक जे.वी.एन. पंकज गर्ग जी ने महात्मा गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी की तस्वीरों पर माल्यार्पण और पुष्प वर्षा कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। तत्पश्चात् विश्वविद्यालय में अध्यनरत विभिन्न संकायों (डिसिप्लिन) की छात्राओं ने अपने भविष्य के करियर से सम्बन्धित व्यवसायों की वेशभूषा पहनकर और हाथों में झाडू लेकर स्वच्छता का संदेश देते हुए कैट वॉक करते हुए प्रण लिया कि भविष्य में वो चाहे कितनी ही उचाईओं पर पहुंचे स्वच्छता को अपनी पहचान बनाये रखेगी और साथ ही समाज को स्वच्छ बनाने में अपने सहयोग प्रदान करेंगी तत्पश्चात योगा एवं नैचुरोपैथी की छात्राओं ने नुक्कड़ नाटक का मंचन करते हुए मोबाईल से होने वाली हानियों और नेचुरोपैथी के द्वारा दिनचर्या अपनाने हेतु
एक जनजागरूकता कार्यक्रम पेश किया।
इसके बाद माननीया चेयरपर्सन जे.वी.एन. विदुषी गर्ग जी ने प्लास्टिक फ्री कैंपस और गोद लिए हुए पांच ग्रामों (झरना,कापडियावास,देवला, केसरीसिंहपुरा और कोटजेवर) के लिए स्वच्छता रैली को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। जिसमे उन्नत भारत अभियान के तहत कार्यरत छात्राओं और NSS कि छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया वहीं रैली को
रवाना करने से पहले यूनिवर्सिटी स्टार्टअप - पुनर्जन्म - Ready to Serve Again के तहत विश्वविद्यालय की डिसिप्लिन ऑफ फैशन डिजायन की छात्राओं को दिए गए 500 कपड़े के बैगों के निर्माण का कार्य सफलतापूर्वक सम्पन्न होने कि घोषणा कि गयी गौरतलब है कि विश्वविद्यालय द्वारा 11 सितम्बर को विश्वविद्यालय की चेयरपर्सन माननीया जे.वी.एन. विदुषी गर्ग जी और विभिन्न डिस्प्लिन की छात्राओं के बीच एक अनुबन्ध पर हस्ताक्षर किये गये थे जिसके तहत डिसिप्लिन ऑफ फैशन डिजायन की छात्राओं को 500 कपड़े के बैगों के निर्माण का कार्य चेयरपर्सन मेम द्वारा सौंपा गया था । इस विशेष अवसर पे आज फैशन डिजायन की छात्राओं ने पुराने दान किये हुए कपड़ो का पुनर्जन्म कर नवीन 500 कपड़े के बैगों के निर्माण कर माननीया चेयरपर्सन जी को सौपा जिसके बाद इन कपड़े के बैगों को पांचों ग्रामों में जाने वाली विभिन्न टीमों को बांटा गया । पांचों ग्रामों में रैली के रूप में पहुंची विश्वविद्याल की टीमों में शामिल छात्राओं और सभी टीचर्स द्वारा घर-घर जाकर पॉलीथीन के बदले कपड़े के बेग देकर प्लास्टिक फ्री एडोप्टेड विलेज कैपेन को आगे बढ़ाया। गांव-गांव स्वच्छता के प्रति जागरुकता प्रदान करने के लिए और छात्राओं के उत्साहवर्दन हेतु विश्वविद्यालय की माननीया चेयरपर्सन मैडम और विश्वविद्यालय माननीय सलाहकार एवं संस्थापक सर ने घर-घर जाकर छात्राओं के साथ कपड़े के थैले बांटे और ग्रामीणों से संकल्प कराया कि आज से किसी भी तरह की विश्वविद्यालय द्वारा
कैम्पस और गोद लिये ग्रामों को प्लास्टिक फ्री करने का अभियान स्वछता ही मेरी पहचान , प्लास्टिक मुक्त हो मेरा गांव और रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। का उपयोग बिल्कुल भी नहीं करेंगे।
इसके अतिरिक्त पूज्यनीय बापू और शास्त्री जी की जयंती पर विश्वविद्यालय की राष्ट्रीय स्वयं सेवा (एन.एस.एस) विंग, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग, उच्च शिक्षा, तकनीकी शिक्षा और पुलिस विभाग ने विश्वविद्यालय के सूर्यांश आरोग्यशाला अस्पताल में रक्तदान शिविर का आयोजन किया। जिसमें विश्वविद्यालय की छात्राओं,शिक्षकगण और अस्पताल स्टाफ ने रक्तदान किया।

TOP